धूप और लू से बचाने के लिए जोमैटो, ब्लिंकिट और फ्लिपकार्ट ने डिलीवरी पार्टनर के लिए किए खास इंतजाम

भारत में इन दिनों गर्मी और लू का प्रकोप जारी है। राजधानी दिल्ली समेत उत्तर भारत के कई शहरों में तापमान 50 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया है। इस भीषण गर्मी में डिलीवरी पार्टनर को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

इन परेशानियों को देखते हुए, कई फूड डिलीवरी और ई-कॉमर्स कंपनियों ने अपने डिलीवरी पार्टनर को धूप और लू से बचाने के लिए विशेष इंतजाम किए हैं।

जोमैटो:

  • देशभर में 250 शहरों के 450 से अधिक स्थानों पर डिलीवरी पार्टनर के लिए आरामगाह बनाए गए हैं।
  • इन आरामगाहों में डिलीवरी पार्टनर को ठंडा पानी, ग्लूकोज, जूस, मोबाइल चार्जिंग पॉइंट और साफ शौचालय की सुविधा मिलेगी।
  • किसी भी डिलीवरी कर्मचारी की तबीयत बिगड़ने पर तुरंत एम्बुलेंस की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।
  • ग्राहकों से अनुरोध किया गया है कि बहुत ज्यादा जरूरत न होने पर दोपहर के समय खाना ऑर्डर करने से बचें।

ब्लिंकिट:

  • डिलीवरी पार्टनर को अतिरिक्त ग्लूकोज और अन्य पदार्थों का वितरण किया जा रहा है।
  • गर्मी से राहत पाने के लिए पंखे और कूलर का प्रावधान किया गया है।
  • लू और गर्मी से बचने के लिए समय-समय पर सलाह दी जा रही है।

फ्लिपकार्ट:

  • डिलीवरी पार्टनर के लिए आरामगाह बनाए गए हैं।
  • ठंडा पानी, ग्लूकोज, जूस, मोबाइल चार्जिंग पॉइंट और साफ शौचालय की सुविधा उपलब्ध कराई गई है।
  • लू और गर्मी से बचने के लिए समय-समय पर सलाह दी जा रही है।

स्विगी इंस्टामार्ट:

  • सबसे अधिक मांग वाले शहरों में 900 से अधिक “आराम जोन” बनाए गए हैं।
  • इन “आराम जोन” में कर्मचारियों को पानी, टॉयलेट, मोबाइल चार्जिंग आदि की सुविधा मिलेगी।

निष्कर्ष:

यह सराहनीय पहल है कि फूड डिलीवरी और ई-कॉमर्स कंपनियां अपने डिलीवरी पार्टनर की सुरक्षा और स्वास्थ्य का ध्यान रख रही हैं।

यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि:

  • यदि आप गर्मी के दौरान ऑनलाइन ऑर्डर करते हैं, तो कृपया डिलीवरी पार्टनर को पानी या ठंडा पेय देने पर विचार करें।
  • आप डिलीवरी के समय को भी थोड़ा आगे या पीछे कर सकते हैं ताकि डिलीवरी पार्टनर को तीव्र गर्मी का सामना न करना पड़े।

इन छोटे-छोटे प्रयासों से हम डिलीवरी पार्टनर की मदद कर सकते हैं और उन्हें सुरक्षित रखने में योगदान दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *