लू से Brain Stroke का खतरा! इन बातों का रखें ख्याल

उत्तर भारत में प्रचंड गर्मी का दौर जारी है. तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के आसपास या उससे ज्यादा है। इस चिलचिलाती धूप और लू के बीच डॉक्टरों ने एक डराने वाली चेतावनी दी है। उनका कहना है कि लू को हल्के में नहीं लेना चाहिए क्योंकि इससे ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है।

डॉक्टरों के अनुसार, तेज गर्मी से शरीर में पानी की कमी हो जाती है, जिससे खून गाढ़ा होने का खतरा बढ़ जाता है। इससे ब्लड सर्कुलेशन धीमा हो सकता है, जो गंभीर मामलों में ब्रेन स्ट्रोक का कारण बन सकता है।

AIIMS दिल्ली की न्यूरोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ. मंजरी त्रिपाठी ने कहा है कि “जितना हो सके खुद को ठंडा रखने की कोशिश करें, क्योंकि हीट स्ट्रोक से ब्रेन स्ट्रोक तक का खतरा हो सकता है।” उन्होंने बताया कि हीट स्ट्रोक दो तरह के ब्रेन स्ट्रोक का कारण बन सकता है:

  • खून की कमी वाला स्ट्रोक: शरीर में पानी की कमी और खून में पानी की कमी से खून को मस्तिष्क तक पहुंचाने वाली नसों में रिसाव होने लगता है। इससे खून गाढ़ा हो जाता है और नसों में जम सकता है।
  • खून बहने वाला स्ट्रोक: यह दो प्रकार का होता है: एक जिसमें खून बहता है और दूसरा जिसमें नहीं।

डॉक्टरों का कहना है कि जिन लोगों को पहले से ही मधुमेह, उच्च रक्तचाप, मोटापा, हृदय रोग, सांस लेने में तकलीफ है या जो धूम्रपान या शराब का सेवन करते हैं, उनमें हीट स्ट्रोक से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है। ऐसे लोगों को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए और बुजुर्गों और बच्चों का खास ख्याल रखना चाहिए।

लू से बचने के लिए कुछ सुझाव:

  • पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • ठंडे कपड़े पहनें और ढीले-ढाले कपड़े पहनें।
  • धूप में बाहर जाने से बचें, खासकर सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे के बीच।
  • अगर आपको बाहर जाना ही पड़े, तो छाता या टोपी का इस्तेमाल करें।
  • नियमित रूप से ठंडा पानी पीते रहें।
  • हल्का और पौष्टिक भोजन खाएं।
  • अगर आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है, तो अपने डॉक्टर की सलाह लें।

गर्मी से खुद को बचाकर और इन सावधानियों का पालन करके आप ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को कम कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *